20 September 2004

सबके फटे में टाँग अड़ाने की आदत पुरानी यानी हम हिंदुस्तानी







अभी अभी भारत भ्रमण से लौटा हूँ| एक बात हालीया राजनीति से ताल्लुक रखती है जिसको बताने के लिए इंतजार नाकाबिले बर्दाश्त हो रहा है| क्या लखनऊ के मशहूर स्कूल श्रंखला संस्थापक श्री जगदीश गाँधी अमेरिकी नागरिक हैं, यदि हाँ तो बाकी जनता को जान केरी को जगदीश गाँधी के समर्थन से क्या लेना देना? यादि नहीं तो जगदीश गाँधी घरेलू मामले छोड़ कर दूसरे देश की अंदरूनी राजनीति में टाँग अड़ा कर क्या प्रर्दशित कर रहे हैं कि उनसे बड़ा कोई बुध्दिजीवी पूरे शहर में नही है|


2 comments:

Anonymous said...

28.11.2004
aaj hi aapka hum hindustani blog pada. aap bhee typical NRI ( i am also working at kuwait) hi nikle, jo ki mahafil mai khud ko bada saabit karne ki koshish mai , india/indians ko chota dikhana chahte hai.
aage se blog kuch target dhyan karke likhey. phokut mood-off nahi karne ka kya?
hindi -fonts mai na likh pane ke liye maafi chahta hoon

Jitendra Chaudhary said...

अतुल भाई,
जरा मेरे को जवाब देने दें.

हाँ भाई, तुम कह रहे थे, हम प्रवासी भारतीय महफिल मे खुद को बड़ा साबित करने के लिये,दूसरे हिन्दुस्तानियों को नीचा दिखाते है.अगर तुम्हे नंगी आंखो से नही दिखता तो आंखो के डाक्टर से चश्मा बनवा लो और फिर पूरा ब्लाग ठीक से पढो, चित्र देखों, फिर बकबक करों.

वैसे तुम्हारे जैसे लोग सिर्फ फालतू की टिप्पणियाँ लिखने के लिये ही पैदा हुए है. अगर ब्लाग मे लिखा समझ मे आये तो ही टिप्पणी करने के लिये लौटना.....