28 July 2006

नौ सौ दास्ताने चुरा के बिल्ली रस्सी पे टँगी!


इनसे मिलिये। नाम है विली , उम्र एक वर्ष , निवास न्यूयार्क का एक घर और शौक पड़ोसियों के दास्ताने चुरा कर मालिक के बरामदे में छोड़ देना। अब बेचारा मालिक पड़ोसियों से झगड़ते झगड़ते आजिज आ गया तो उसने अपने घर के बाहर चुरकट बिल्ली को बाँध दिया और पोस्टर लगा दिया कि जिसका जो दास्ताना हो ले जाये। देख लीजिये आपका भी दास्ताना इस बिल्लो रानी ने तो नही चुराया है।

6 comments:

आलोक said...

वाह तो इस तरह सामने आई ज्वलन्त मुद्दों की पीड़ा।

अनूप शुक्ल said...

इस पर शोध किया जाये कि बिल्ली को चोरी की आदत पड़ी कैसे?

Anonymous said...

बिल्ली को लटका दिया?!!!!
यह प्राणी उत्पीडन का मामला हैं.
अरे..कोई हैं? मेनकाजी...

Manish Kumar said...

ये भी खूब रही ! :)

प्रेमलता पांडे said...

बेचारी बिल्ली दस्ताने ला ही तो रही थी देकर तो नहीं आ रही थी।-premlata

Shuaib said...

हा - पालतू बिल्ली है ना इस लिए ;)