06 August 2006

बूझो तो जाने - कयास अच्छे लगे!


कयास अच्छे लगाये गये। मिर्ची सेठ बहुत पास पहुँच गये। अब इस तस्वीर से शायद मामला साफ हो जाये! अगर भी अब कोई शँका तो समझ लीजिये कि मामला शँका समाधान से संबधित हैं।

3 comments:

SHUAIB said...

माफ किजिएगा हमारी तो कुछ समझ मे नही आया - अब आप ही बतादें

Tarun said...

ये किसी होटल में लगी है जेन्टस और लेडिज के टायलेट (शौचालय) का फर्क बताने के लिये।

राजीव said...

अतुल जी, आपने तो स्वयं ही उत्तर दे दिया, लगभग! अब दो - दो बार उत्तर से सम्बन्धित शब्द का प्रयोग करेंगे तो उत्तर तो स्पष्ट हो गा ही! - क्यों ठीक है ना? हो गया शंका का समाधान!