15 September 2006

दो मजेदार तस्वीरें

१२ साल के परवेज खान अपनी दुकान से लादेन के पोस्टरों को रूखसत कर रहे हैं दो वजहों से। पहली पुलिस डँडा बरसाती है ऐसे पोस्टरों से , दूसरे अब भारतीय अभिनेत्रियों के पोस्टरों के खरीदार बढ़ गये हैं।



जनाब यह तो महज एक मूर्ती है, यह ऐसा कुछ नही करेगी कि इसकी इस तरह सरेआम धुलाई हो। वह तो मार पड़े मौसम को, जो काई जमा देता है। केनसास में "विचारक" नाम की इस मूर्ती पर मौसमरोधी लेप चढ़ाया जा रहा है बस!

2 comments:

SHUAIB said...

हा हा - दोनों चित्र बढिया मज़ेदार ढूंड लए - शेर करने के लिए धन्यवाद

rajeev said...

Hi,

Nice blog!

Why don’t you consider writing about some of the new “India 2.0” sites that are creating a little buzz as well?

Eg: www.ilaaka.com

www.onyomo.com

Thanks!

Rajeev