31 October 2007

किताब का मालिक कौन?

कल की बात है, घर के अध्ययन कक्ष में बाँके जी और उनकी माँ के बीच जोर आजमाइश चल रही थी, पढ़ाने लेकर। बाँके जी की माँ चिल्ला रही थीं "ये क्या उल्टा सीधा लिखा फिर से लिखो।"
बाँके जी ने कसमसा के फिर से लिखा। लिखाई ऐसी कि खुद लिखें बाँचे खुदा। क्या करे बाप पर जो गये हैं
नतीजा फिर वही, फिर से डपटे गये, और माँ अमादा है कि बाँके जी की हस्तलिपि सुधरवा के रहेंगी।
कुछ देर बाद बाँके जी के सब्र का पैमाना छलक गया। आगे जो मैने सुना वह कुछ ऐसा था इसमें बाँके जी और उनकी माँ का वार्तालाप अपनी अपनी मातृभाषा में है।

बाँके जी: Hey Mom, tell me one thing !
बाँके जी की माँ: टेलो ( कभी कभी परिहास में हम लोग अंग्रेजी का हिन्दीकरण कर डालते हैं )
बाँके जी: Whose home work is this?
बाँके जी की माँ : तुम्हारा
बाँके जी: and whose book is this?
बाँके जी की माँ: तुम्हारी
बाँके जी: and who has to write in this?
बाँके जी की माँ:तुमको
बाँके जी: then who is the Boss of this book?
बाँके जी की माँ:आप
बाँके जी: then I will decide how to write in it, because I am the Boss!


बाँके जी की माँ सन्न! हम सोच रहे हैं कि शायद इसी तरह के जवाब अमेरिकी कूटनीतिज्ञ देते होंगे दुनिया के नेताओं को।

11 comments:

sunita (shanoo) said...

बहुत खूब...:)

anitakumar said...

बांके जी को तो अमेरिका ही भेज दिजिए साहब, अच्छा हुआ अपने को ऐसे जवाब नही सुनने पड़े।

Atul Arora said...

अनीता जी

बाँके जी अमेरिका में ही पैदा हुऐ हैं, वहीं रहते हैं।

अनिल रघुराज said...

मां-पुत्र का संवाद काफी रोचक है। वैसे ईमानदारी से कहूं तो आतंकी माताओं को बच्चों को ऐसी ही झड़प लगानी चाहिए।

Udan Tashtari said...

सही रास्ते पर हैं महाराज!!! :)

अनूप शुक्ल said...

बेटा बाप पर गया है। :)

Mrs. Asha Joglekar said...

सही चित्र खींचा है आपने माँ बेटे के संवाद का ।

काकेश said...

बांके जी महान हैं.

Pratyaksha said...

bijdocपूत के पाँव पालने में दिख रहे हैं :-)

बाल किशन said...

माँ और बेटा दोनों हो महान है.

JANENDRA said...

यार तेरी भी तो राइटिंग अच्छी नहीं थी तबी तो मेरी चाची हमेशा दातती थी/